अपराधउत्तर प्रदेशराज्य

Nilgiri Infracity के CMD,MD और मैनेजर को सुप्रीम कोर्ट से मिली जमानत, गैंगेस्टर समेत 130 मुकदमों में अंतरिम जमानत

14 महीनों से जेल के अंदर बंद थे नीलगिरी इंफ्रासिटी के दंपति और मैनेजर

mknews/वाराणसी/रिपोर्ट श्वेताभ सिंह

 

प्लाट व टूर पैकज देने के नाम पर कई लोगों से धोखाधड़ी कर करोड़ों रुपये हड़पने के मामले में नीलगिरी इंफ्रासिटी प्राइवेट लिमिटेड के सीएमडी विकास सिंह, उसकी पत्नी एमडी ऋतु सिंह व मैनेजर प्रदीप यादव मंगलवार को जेल से रिहा कर दिया गया। सुप्रीम कोर्ट ने तीनों आरोपितों के खिलाफ गैंगेस्टर समेत कुल 130 मुकदमों में अंतरिम जमानत दे दी थी। इस आदेश के बाद आरोपितों की ओर से जिला न्यायालय में जमानतें एवं बंधपत्र दाखिल किया गया। अदालत से मंजूरी मिलने के बाद तीनों को जेल से रिहा कर दिया। अदालत में आरोपितों की ओर से अधिवक्ता अनिल राय,मुकेश राय व सुरेश बहादुर सिंह ने पक्ष रखा।

विकास सिंह और ऋतु सिंह तुलसीपुर, महमूरगंज क्षेत्र के सुकून विला नंबर-11 सौभाग्य लक्ष्मी, विला रेजिडेंसियल सोसाइटी के रहने वाले हैं। उनका मैनेजर प्रदीप यादव लक्सा क्षेत्र के जद्दू मंडी का रहने वाला है। अगस्त 2021 में तीनों के साथ ही उनके अन्य साथियों के खिलाफ चेतगंज थाने में धोखाधड़ी के आरोप में एक साथ 15 मुकदमे दर्ज किए गए थे। 30 अगस्त 2021 को विकास सिंह, ऋतु सिंह और प्रदीप यादव को गिरफ्तार किया गया था। तब से अब तक तीनों जेल में ही बंद थे। गिरफ्तारी के समय ऋतु सिंह गर्भवती थी और जेल में ही उसने एक पुत्री को जन्म दिया था। ऋतु के साथ उसकी मासूम बच्ची भी जेल की सलाखों के पीछे ही रह रही थी। आरोपियों के वकील अनिल राय ने बताया कि लंबी कानूनी लड़ाई के बाद तीनों को सुप्रीम कोर्ट से राहत मिली है। पूर्व में आरोपियों की जमानत अर्जी जिला अदालत से लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट से भी खारिज हो गई थी। उन्होंने बताया कि आरोपियों से अब तक 30 लोगों ने अपने पैसा वापस प्राप्त कर लिया है। बाकी अन्य लोगों का भी जल्द ही भुगतान कर दिया जाएगा।

बाता दें की विगत 14 महीने पूर्व चेतगंज समेत जनपद के कई थानो में प्लाट व टूर पैकज देने के नाम पर कई लोगों से धोखाधड़ी करते हुए करोड़ो रूपये हड़पने के मामले में आरोपित नीलगिरी इंफ्रा सिटी प्राइवेट लिमिटेड के सीएमडी विकास सिंह, एमडी पत्नी ऋतु सिंह व मैनेजर प्रदीप यादव समेत कई लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ था। इस मामले में गिरफ्तारी के समय कंपनी की एमडी ऋतु सिंह गर्भवती थी और जेल में ही एक पुत्री को जन्म दिया। इन आरोपितों की जमानत अर्जी को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने भी खारिज कर दिया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button