राष्ट्रीय

LOVE JIHAD : आफताब ने श्रद्धा का गला दबाकर की हत्या, शरीर के किए 35 टुकड़े, 18 दिन तक फेकता रहा शरीर के हिस्से

12 नवंबर 2022 को कातिल प्रेमी आफताब की हुई गिरफ्तार

mknews/वाराणसी/रिपोर्ट श्वेताभ सिंह

 

श्रद्धा की आफताब अमीन पूनावाला से मुंबई में जान-पहचान हुई। फिर एक दिन आफताब ने दिल्ली में श्रद्धा को गला दबाकर मार डाला। उसके शव के 35 टुकड़े किए। 18 दिन तक रात के करीब 2 बजे वह घर से निकल श्रद्धा के बॉडी पार्ट्स दिल्ली में इधर-उधर फेंकता रहा। श्रद्धा की हत्या के करीब छह महीने बाद यह खुलासा हुआ है। 12 नवंबर 2022 को आफताब की गिरफ्तार हुई।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक श्रद्धा मूल रूप से महाराष्ट्र के पालघर की रहने वाली थी। आफताब से उसकी मुलाकात मुंबई में हुई थी। दोनों मलाड के एक कॉल सेंटर में साथ काम करते थे। जान-पहचान कुछ समय बाद प्यार में बदल गई। दोनों लिव इन रिलेशनशिप में रहने लगे। जब श्रद्धा ने शादी का दबाव बनाया तो शुरुआत में आफताब ने टालमटोल की। आखिर में उसे जान से ही मार डाला।

 

बताया जा रहा है कि शादी का दबाव बढ़ने पर आफताब दिल्ली आया। फिर बहाने से श्रद्धा को बुलाया। यहाँ पर भी दोनों साथ रहने लगे। पुलिस पूछताछ में आफ़ताब ने बताया कि 18 मई 2022 को उसका शादी को लेकर श्रद्धा से काफी झगड़ा हुआ था। इसी दौरान उसने गुस्से में श्रद्धा को गला दबाकर मार डाला। बाद में सबूत छिपाने के लिए उसके शव के 35 टुकड़े किए और उसे दिल्ली के अलग-अलग हिस्सों में फेंक दिया।

 

इस बीच महाराष्ट्र में मौजूद श्रद्धा के 59 वर्षीय पिता मदान वाकर ने लंबे समय से बेटी से सम्पर्क न होने पर उसकी खोजबीन शुरू की। वे बेटी बताए गए फ्लैट के पते पर पहुँचे तो वहाँ ताला लगा मिला। आखिरकार 8 नवम्बर 2022 को उन्होंने बेटी की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई। पुलिस ने अपनी जाँच के केंद्र में आफ़ताब को रखकर खोजबीन शुरू की। आरोपित का नंबर सर्विलांस पर लगा कर शनिवार को उसे खोज निकाला।

पुलिस पूछताछ में आफताब ने अपना गुनाह कबूल किया। अब पुलिस आफताब से हुई पूछताछ के आधार पर मृतका श्रद्धा के शव के हिस्से तलाशने में जुटी हुई है। बताया जा रहा है कि अभी तक पुलिस कुछ हड्डियों को बरामद कर पाई है। रिपोर्ट के अनुसार हत्या के बाद 18 दिनों तक आफताब रोज रात के करीब 2 बजे घर से निकलता था। श्रद्धा के शव के टुकड़ों को जंगलों के फेंक आता था ताकि जानवर उसे खा लें।

दोस्त ने किया खुलासा, कहा – आफताब से उसका होता था खूब झगड़ा, परिवार से नहीं करती थी बातचीत

 

श्रद्धा की दर्दनाक मौत की कहानी सुनकर पूरा देश सदमे में है। एक नए खुलासे से ये साफ हो गया है कि श्रद्धा और उनके प्रेमी के बीच सब कुछ ठीक नहीं था और दोनों में काफी झगड़ा होता था। दरअसल, मौत से कुछ दिन पहले तक श्रद्धा जिस दोस्त के संपर्क में थीं- उसी ने अब इन बातों का खुलासा किया है।

 

श्रद्धा के दोस्त लक्ष्मण नाडर ने ‘इंडिया टुडे’ को बताया कि आफताब और श्रद्धा का बहुत झगड़ा होता था। उसने कहा कि एक बार श्रद्धा ने मैसेज कर खुद को बचा लेने की बात कही थी। वो सभी दोस्त रात में उसके पास पहुँचे थे और उसे बचाया था। दरअसल, लक्ष्मण नाडर की वजह से ही श्रद्धा हत्याकांड का पर्दाफाश हो पाया। श्रद्धा अपने परिवार से पूरी तरह से कट गई थी और बातचीत करना बंद कर दिया था। मगर, वह अपने दोस्त नाडर के संपर्क में थी।

लक्ष्मण ने बताया की श्रद्धा को लेकर अगस्त 2022 से ही चिंता बढ़ने लगी थी। दो महीने से ये लोग संपर्क में नहीं थे और श्रद्धा किसी भी मैसेज का रिप्लाई नहीं कर रही थी। लक्ष्मण ने कहा कि उसके बाद उन्हने हमारे कोमन दोस्तों से संपर्क साधा, लेकिन कुछ पता नहीं चला, फिर इन लोगों ने उसके भाई को पूरी बात बताई और पुलिस की सलाह लेने की बात कही।

श्रद्धा की आफताब अमीन पूनावाला से मुंबई में जान-पहचान हुई। फिर एक दिन आफताब ने दिल्ली में श्रद्धा को गला दबाकर मार डाला। उसके शव के 35 टुकड़े किए। 18 दिन तक रात के करीब 2 बजे वह घर से निकल श्रद्धा के बॉडी पार्ट्स दिल्ली में इधर-उधर फेंकता रहा। श्रद्धा की हत्या के करीब छह महीने बाद यह खुलासा हुआ है। 12 नवंबर 2022 को आफताब की गिरफ्तार हुई।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक श्रद्धा मूल रूप से महाराष्ट्र के पालघर की रहने वाली थी। आफताब से उसकी मुलाकात मुंबई में हुई थी। दोनों मलाड के एक कॉल सेंटर में साथ काम करते थे। जान-पहचान कुछ समय बाद प्यार में बदल गई। दोनों लिव इन रिलेशनशिप में रहने लगे। जब श्रद्धा ने शादी का दबाव बनाया तो शुरुआत में आफताब ने टालमटोल की। आखिर में उसे जान से ही मार डाला।

बताया जा रहा है कि शादी का दबाव बढ़ने पर आफताब दिल्ली आया। फिर बहाने से श्रद्धा को बुलाया। यहाँ पर भी दोनों साथ रहने लगे। पुलिस पूछताछ में आफ़ताब ने बताया कि 18 मई 2022 को उसका शादी को लेकर श्रद्धा से काफी झगड़ा हुआ था। इसी दौरान उसने गुस्से में श्रद्धा को गला दबाकर मार डाला। बाद में सबूत छिपाने के लिए उसके शव के 35 टुकड़े किए और उसे दिल्ली के अलग-अलग हिस्सों में फेंक दिया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button